अस्पताल एवं नर्सिंग होम के लिए वास्तु टिप्स - Hospital And Nursing Home Ke Liye Vastu Tips
Mark Kaniksu
वास्तु टिप्स

अस्पताल एवं नर्सिंग होम के लिए वास्तु टिप्स - Hospital And Nursing Home Ke Liye Vastu Tips

Team Raftaar

  • वास्तुशास्त्र के अनुसार अस्पताल बनाते समय उसके बाहर का स्थान खुला रखना उचित होता है। आपात स्थिति में ऐसी सुविधा लोगों के लिए फायदेमंद साबित होती है।

  • अस्पताल का प्रवेश द्वार, रिसेप्शन, कैश काउंटर शौचालय, पार्किंग आदि दक्षिण-पश्चिम दिशा में बनाया जा सकता है।

  • अस्पताल का आई.सी.यू. (गहन चिकित्सा कक्ष) उत्तर पश्चिम दिशा में बनाना अच्छा माना जाता है।

  • नर्सिंग होम या अस्पताल का चिकित्सा कक्ष और ऑपरेशन थियेटर पश्चिम दिशा में बनाना उत्तम होता है।

  • वास्तुशास्त्र की दृष्टि से आपातकालीन कक्ष उत्तर पश्चिम दिशा को निकट या उत्तर एवं पूर्व में बनाना अच्छा होता है।

  • वास्तुशास्त्र के मुताबिक अस्पताल के दक्षिण-पश्चिम दिशा में भंडार, रिसर्च यूनिट या लैबोरेटरी बनायी जा सकती है परंतु इस दिशा में कोई वार्ड नहीं बनाना चाहिए।

  • डॉक्टरों के कमरे (ओ.पी.डी.) अस्पताल के पूर्व या उत्तर दिशा में बनाया सही होता है।

  • अस्पताल में मुर्दा घर और पोस्टमार्टम के कमरे को दक्षिण दिशा में बनाया जा सकता है।

  • वास्तुशास्त्र के अनुसार रोगियों के कमरे में रखे जाने वाले बैड का सिरहाना उत्तर दिशा की तरफ नहीं होना चाहिए।

  • एक्सरे मशीन, फिजियो थैरेपी एवं विधुत उपकरण के कमरे हमेशा दक्षिण-पूर्व दिशा या इसके समीप बनाया जाना अच्छा होता है।

  • अस्पताल में रोगियों के कमरे उत्तर- पश्चिम दिशा में होना श्रेष्ठ माना जाता है।

  • अस्पताल में स्टाफ के लोगों के लिए कमरे यदि पश्चिम दिशा में हो तो वास्तु की दृष्टि से अच्छा होता है।