महाशिव रात्रि और ख़ास उपायMahashivratri Rashi

इस महाशिव रात्रि पर राशि अनुसार करे ये ख़ास उपाय ओर दुर्भाग्य को दूर करे:

मेश राशि : मेश राशि का स्वामी मंगल है इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक कच्चे दुघ एवम दही से करे साथ ही भगवान शिव को पूजा मे गुलाब के फूल अर्पित करे।
वृषभ राशि : वृषभ राशि का स्वामी शुक्र है इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक गन्ने के रस से करे साथ ही भगवान शिव को मोगरे का इत्र भी अर्पित करे।
मिथुन राशि :- मिथुन राशि का स्वामी बुध है इस राशि के जातक भगवान शिव तो बिल्व पत्र अर्पित करे साथ ही ओम नमः शिवाय मंत्र का 108 बार जाप करे।
कर्क राशि :- कर्क राशि का स्वामी चंद्र है इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक कच्चे दूध मे शक्कर मिलकर करे साथ ही चंद्र शेखर स्त्रोत का भी पाठ करे।
सिंह राशि :- सिंह राशि का स्वामी सुर्य है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक जल से करे साथ ही भगवान शिव को सफेद मिठाई का भोग भी लगावे।
कन्या राशि:- कन्या राशि का स्वामी बुध है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का पंचामृत से अभिषेक करे साथ ही शिव तांडव स्त्रोत का भी पाठ करे।
तुला राशि:- तुला राशि का स्वामी शुक्र है इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक पानी मे इत्र डालकर करे इसके बाद भगवान शिव का चंदन से स्रिंगार करे।
वृश्चिक राशि :- इस राशि का स्वामी मंगल है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का शहद से अभिषेक करे तथा भगवान शिव को लाल मसूर की दाल भी अर्पित करे।
धनु राशि :- इस राशि का स्वामी गुरु है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का चावल से सृंगार करे तथा पीली मिठाई का भोग भी लगावे।
मकर राशि :- इस राशि का स्वामी शनि है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक दुघ मे गंगाजल मिलाकर करे साथ ही भगवान शिव को सूखे मेवे का भोग भी लगावे।
कुंभ राशि :- इस राशि का स्वामी शनि है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक जल मे काले तिल मिलकर करे साथ ही शिव चालीसा का भी पाठ करे।
मीन राशि :- मीन राशि का स्वामी गुरु है तथा इस राशि के जातक भगवान शिव का अभिषेक दूध मे केसर मिलकर करे साथ ही कपूर जलाकर भगवान की आरती करे।

नव ग्रह शांति के लिए वार अनुसार करे ये ख़ास उपाय मिलेगा शुभफल:

सोमवार :- सोमवार चंद्र देव का वार है इसलिए शिवलिंग पर कक्चा दूध अवश्य अर्पित करे . साथ ही ओम श्री चंद्र देवाय नमः मंत्र का भी जाप करे इससे चंद्र ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
मंगलवार :- मंगलवार मंगल देव का वार इसलिए शिवलिंग पर लाल मसूर की दल अवश्य अर्पित करे साथ ही ओम श्री मंगल देवाय नमः मंत्र का भी जाप करे इससे मंगल ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
बुधवार :- बुधवार बुध देव का वार है इसलिए प्रति बुधवार शिवलिंग पर द्रुवा (एक प्रकार की घास) अवश्य अर्पित करे साथ ही ओम बुध देवाय नमः मंत्र का भी जाप करे इससे बुध ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
गुरुवार :-गुरुवार देव गुरु बृहस्पति का वार है इस दिन शिवलिंग पर चने की दाल अवश्य अर्पित करे साथ ही ओम गुरुवे नमः मंत्र का भी जाप करे इससे गुरु ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
शुक्रवार :- शुक्रवार देत्य गुरु शुक्र का वार है इस दिन शिवलिंग पर चावल अवश्य अर्पित करे लेकिन ध्यान रखे चावल खंडित ना हो साथ ही ओम शुक्राय नमः मंत्र का भी जाप करे इससे शुक्र ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
शनिवार:-शनिवार शनि देव का वार है इस दिन शिवलिंग का जल मे काले तिल मिलकर अभिषेक करे साथ ही ओम सूर्यपुत्राय नमः मंत्र का भी जाप करे इससे शनि ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
शनिवार :-जो जातक राहु ओर केतु के दोषो से परेशान वे शनिवार के दिन शिवलिंग का जल मे काले तिल मिलकर अभिषेक करे साथ ही महामृत्युंजय मंत्र का भी जाप करे इससे राहु ओर केतु ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।
रविवार :- रविवार सूर्य देव का वार है इस दिन शिवलिंग पर गेहू अवश्य अर्पित करे साथ ही ओम सूर्याय नमः मंत्र का भी जाप करे इससे सूर्य ग्रह के दोष मे शांति मिलती है।

भगवान शिव के कुछ ख़ास उपाय जिन्हे करने से होंगे सभी मनोरथ पूर्ण एवम ग्रह शांति:

1. भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र ओम नमः शिवाय का निरंतर जाप करने से सभी मनोरथ की प्राप्ति होती है जप की संख्या कम से कम 108 होनी चाहिए
2. जो लोग स्वयं का घर बनाने की इच्छा रखते है उन्हे अपनी इच्छा पूर्ति के लिए शिव रुद्राभिषेक - शहद से करना चाहिए
3. जो लोग अनावश्यक शत्रु पीड़ा से परेशान है उन्हे श्याम शिवलिंग का सरसो के तेल से रुद्राभिषेक करना चाहिए
4. संतान प्राप्ति के लिए मक्खन के शिवलिंग बनाकर गंगाजल से रुद्राभिषेक करे
5. परीक्षा मे सफलता प्राप्ति हेतु दूध - भांग मिलाकर शिवजी का पूजन करे
6. जो लोग किसी बीमारी से .परेशान है वे शिवजी का गाय के घी से भगवान शिव का अभिषेक करे
7. व्यापार मे तरक्की के लिए स्फटिक से बने शिवलिंग का पंचामृत से अभिषेक करे
8. सभी प्रकार के सुखो की प्राप्ति हेतु पारे के बने शिवलिंग का नित्य पूजन करे
9. जो लोग आर्थिक तंगी से परेशान है वे लोग शिव दरिद्रदहन स्त्रोत का नियमित रूप से पाठ करे
10. जो लोग शनि, राहु , केतु की महादशा से परेशान है वे लोग भगवान शिव का अभिषेक पानी मे काले तिल मिलकर करे
11. पुत्र प्राप्ति के लिए नियमित रूप से सोमवार का व्रत रखे साथ ही शिलिंग का पंचामृत से अभिषेक करे
12. अगर आपके जीवन मे अकारण ही परेशानिया आ रही है तो भगवान शिव के महामृत्युंजय मंत्र का जप करना परम फलदायी है
13. भगवान शिव को चंदन का इत्र अर्पित करने से अखंड वेभव की प्राप्ति होती है
14. अगर आप मानसिक परेशानियो से परेशान है तो भगवान शिव का अभिषेक दूध मे शक्कर मिलाकर करे
15. भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए नियमित रूप से संध्या के समय रावण द्वारा रचित शिव तांडव स्त्रोत का पाठ करे

शिवरात्रि के ब्रत पर साबूदाने की खीर:

साबूदाने की खीर और खिचड़ी पुरे भारत का लोकप्रिय व्यंजन है और व्रत के समय पसंद किये जाने वाले फलाहार में सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। वैसे तो यह व्यंजन आप किसी भी विशेष अवसर पर बना सकते हैं, लेकिन शिवरात्रि के ब्रत पर इसका बहुत महत्व है. यह एक बहुत ही झटपट से बनने वाली रेसिपी है, इसकी तैयारी में 45 मिनट मिनट लगते है । इस खास पर्व पर इस रेसिपी को बनाना न भूले।
साबूदाने की खीर बनाने की सामग्री · साबूदाना 2 कटोरी 60 मिनट्स पहले गले हुए
· दूध 1 किलो
· शक्कर 1/कप
· मेवा स्वादुनसार
साबूदाने की खीर बनाने की विधि · बर्तन में दूध उबाल दें
· साबूदाना और थोड़ा पानी डालें और खीर पकने दें
· जब तक के दाने साफ़ न हो जाएं
· अपने हिसाब से शक्कर डालें
· लगातार चमच्च से हिलाते जाएं
· गरमा गरम साबुत दाने की खीर शिवरात्रि के लिए तैयार है ।
साबूदाना खिचड़ी बनाने के लिए सामग्री · साबूदाना 1 कप
· मूंगफली दाना 2 चम्मच
· आलू 1 मध्यम आकार
· हरी मिर्च 2 पीस
· जीरा 1 /2 चम्मच
· घी 3 चम्मच
· नींबू का रस 1 चम्मच
· अनार के दाने 2 चम्मच
· कालीमिर्च 1/2 चम्मच
· हरा धनिया सजाने के लिए
· सेंधा नमक स्वाद के अनुसार
साबूदाना खिचड़ी बनाने की विधि · साबूदाना धोकर गरम पानी में उबाल दे ।
· मूंगफली दाना एक कप पानी में अलग भिगो दें।
· आलू के छिलके निकाल लें और धोकर छोटे टुकड़ों में काट लें।
· हरी मिर्च को धोकर बारीक़ काट लें।
· एक नॉन स्टिक बर्तन में घी गर्म करें।
· घी गर्म होने के बाद इसमें जीरा , हरी मिर्च डालें।
· जीरा भुनने के बाद आलू डाल दें और पकने दें। थोड़ा हिला दें।
· दो मिनट बाद भीगी हुई मूंगफली डाल दें।
· साबूदाना में बाहर ही काली मिर्च और सेंधा नमक डाल कर मिला लें।
· नमक मिर्च मिला हुआ साबूदाना कढ़ाई में डालकर ढ़क्कन लगा दें।
· धीमी आंच पर पाँच से दस मिनट तक पका लें। बीच में एक दो बार हिला लें।
· गैस बंद कर दें और नींबू का रस डाल कर मिला लें ।
· हरे धनिये और अनार के दानों से सजा कर गर्मागर्म सर्व करें।
[+]

नामांक बताएगा आपका भविष्य

नामांक भविष्यफल जानने का आसान तरीका
माना जाता है। अपना नामांक जानने के
लिए यहां अपना नाम दर्ज करें

Love Meter

लव मीटर

ताज़ा ख़बर

शब्दकोश

word of the day