जानें कोरोनावायरस में राहु केतु का महत्व - Jane Coronavirus Mein Rahu Ketu Ka Mehtva

कोरोनावायरस, इस एक शब्द ने पूरे विश्व के दिलों और दिमाग में एक तरह से भय पैदा कर दिया है। एक ऐसा चमगादड़ वायरस जो चमगादड़ से उत्पन्न होता है, उसके परिणामस्वरूप 30,000 से अधिक मौतें हुई हैं और दुनियाभर में संक्रमण के 7 लाख से अधिक सक्रिय मामले सामने आए हैं।
विश्व के एक चौथाई से अधिक लोग अस्थायी रूप से लॉकडाउन के अधीन है, जिसके परिणामस्वरूप आने वाले महीनों में दुनिया के लिए एक गंभीर आर्थिक झटका होगा। दुनिया के कुछ हिस्सों में तेजी से बढ़ रहे मामलों के साथ, सरकारें, वैज्ञानिक और अन्य विशेषज्ञ इस घातक वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सख्त कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि आम आदमी पर इसका बुरा प्रभाव पड़ेगा और आर्थिक स्थिति गिरती रहेगी। आइए अब इस घातक वायरस की उत्पत्ति और संचरण के ज्योतिषीय कारण की जांच करें, जिसने पूरी दुनिया को सचमुच अपने घुटनों पर ला दिया है।
राहु और केतु: नवग्रहों में से राहु और केतु को छाया ग्रह के रूप में जाना जाता है। वे अदृश्य ग्रह हैं, जिन्हें सूर्य, चंद्रमा या अन्य पांच तारा ग्रहाओं (बृहस्पति, शनि, मंगल, शुक्र और बुध) के विपरीत नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता है, और कहा जाता है कि वे ग्रह हैं जो इस तरह के संकेत देते हैं ये दोनों ग्रह मानव आंख के लिए अदृश्य हैं।
राहु जिसका पंच दोष में तत्व है, वो है "वायु" जो कि कोरोनवायरस के फैलने का प्राथमिक जरिया है और यह हवा के माध्यम से फैल सकता है (जब एक व्यक्ति जो वायरस छींक या खांसी से प्रभावित होता है) ऐसी स्थिति व्यक्ति हवा में मौजूद वायरस के जरिये संक्रमित हो सकता है।राहु और केतु दोनों अपरंपरागत छाया ग्रह होने के कारण, आपको आपदा के बारे में बताए बिना एक भयानक रूप देने की क्षमता रखते हैं। कोई भी राहु या केतु से संबंधित घटना अचानक होती है। एक भिखारी रातोंरात राजा बन जाता है या एक अमीर व्यापारी सेकंड के भीतर अपना सारा पैसा खो देता है।
राहु की आर्द्रा नक्षत्र में जाना : 11 सितंबर, 2019 को राहु ग्रह जो कि मिथुन राशी से गुजर रहा था, नक्षत्र या आर्द्रा नक्षत्र में चला गया। आर्द्रा का अर्थ है जहर और इसके परिणामस्वरूप बड़े परिवर्तन, किसी भी चीज को नष्ट करना। रहु इस नक्षत्र में 20 मई, 2020 तक रहेगा और यह अवधि ग्रह पर होने वाली बड़ी उथल-पुथल या असफलताओं को इंगित करती है। इस प्रकार आर्द्रा नक्षत्र में राहु (वह ग्रह जो वायुजनित विषाणुओं को दर्शाता है) कोरोनावायरस के प्रकोप में प्राथमिक चालक है। आखिरी बार जब राहु ने 2001 में अर्ध नक्षत्र के माध्यम से उसे पार किया, तो दुनिया ने 11 सितंबर को न्यूयॉर्क में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर ट्विन टावरों पर आतंकी हमले को देखा। जब राहु 1963 में आर्द्रा नक्षत्र में प्रवेश कर रहा था, तब जॉन एफ कैनेडी की हत्या भी हुई।
पहले मामले का समय और बृहस्पति का पारगमन: दुनिया की कोई भी बड़ी घटना तब तक नहीं होती जब तक बृहस्पति का प्रभाव धन निर्माण, ज्ञान और सौभाग्य और शनि, प्रतिबंध, पीड़ा, दुखों आदि पर न पड़े। 4 नवंबर, 2019 को, बृहस्पति धनु राशि में परिवर्तित हो गया था, जो कि बृहस्पति की अपनी राशि है।
सामान्य परिस्थितियों में यह ग्रह के लिए एक बहुत ही सकारात्मक परिवर्तन होना चाहिए था लेकिन दुर्भाग्य से, केतु और शनि उस समय धनु राशि में बृहस्पति की प्रतीक्षा कर रहे थे। शनि जैसा केतु न केवल एक प्रतिबंधक ग्रह है, बल्कि सांसारिक मामलों से पूर्ण अलगाव और मुक्ति का ग्रह भी है।
यह मुख्य रूप से सुख देने वाली चीजों को अस्वीकार करने का समय है। यह बृहस्पति के साथ केतु का संयोजन है जिसने न केवल बृहस्पति के सकारात्मक प्रभाव को खराब कर दिया है, बल्कि कोरोनवायरस के रूप में एक महामारी की घटना भी हुई है। याद रखें, मिथुन राशी में बैठा राहु बृहस्पति, केतु और शनि को प्रेरित कर रहा था और इसने कुछ बड़ी घटनाओं के होने के ट्रिगर के रूप में काम किया जिसके भयावह परिणाम हो सकते थे।
कहा जाता है कि पहला मामला 17 नवंबर, 2019 को चीन के हुबेई प्रांत में घटित हुआ था। तारीख 17 को नोट करें। 1 + 7 = 8 जो शनि की संख्या है।
शनि और उस सूर्य ग्रहण की भूमिका: एक महामारी या विश्व युद्ध जैसी दुनियाभर की घटना केवल शनि के भारी प्रभाव में हो सकती है। जैसा कि हम भारत में कहते हैं, शनि जनता या आम आदमी का ग्रह है। आर्द्रा में राहु के होने से वायरस को इतने बड़े स्तर पर फैले होने के बारे में किसी नहीं सोचा था। राहु इस वायरस का प्राथमिक कारण है लेकिन यह सीमा शनि द्वारा निर्धारित की जाती है। 9/11 के हमले और JFK की हत्या एक महामारी विश्व युद्ध के रूप में नहीं देखी गयी थी, लेकिन कोरोनवायरस पहले ही बहुत कम समय इतने बड़े स्तर पर पहुंच चुका है। दुनिया के कई हिस्सों में लगाए गए लॉकडाउन का असर कुछ ऐसा है जो दो विश्व युद्धों के दौरान भी नहीं देखा गया है। अमेरिकी शेयर बाजार अपने पूरे इतिहास में पहली बार बंद हुआ था। इन सभी घटनाओं को शनि और पिछले दशक के अंतिम सूर्य ग्रहण से देखा जा सकता है।
26 दिसंबर, 2019 का सूर्य ग्रहण उत्प्रेरक था जिसके परिणामस्वरूप इस विनाशकारी वायरस की घातीय वृद्धि हुई है। ग्रहण एक अनोखी घटना थी जिसमें एक घर में छह से कम ग्रहों (बिलकुल 6!) ग्रहों की उपस्थिति देखी गई थी। सूर्य, चंद्रमा, बुध, बृहस्पति, शनि और केतु सभी धनु राशि में मौजूद थे। इन छह ग्रहों में से चार अर्थात् सूर्य, चंद्रमा, बुध और बृहस्पति मूला नक्षत्र में मौजूद थे। अब मुला को देवता कीर्ति द्वारा शासित किया जाता है, जो छिपे हुए लोकों और दुखों का देवता कहते हैं जिसके परिणामस्वरूप विकार, विनाश और विघटन होता है। चीन में उत्पन्न कोरोनावायरस, यह दुनिया भर में जनवरी के बाद से यूरोप और अमेरिका के कई देशों में तेजी से फैल गया, जिसके परिणामस्वरूप दुनिया भर में हजारों लोग मर गए। वायरस के आगे प्रसार से बचाने के लिए, दुनिया भर की सरकारों ने यात्रा को निलंबित करने, हवाई अड्डों, ट्रेन स्टेशनों और परिवहन के अन्य सभी रूपों को बंद करने का फैसला लिया। स्कूल बंद कर दिए गए, कार्यालयों ने अपने शटर गिरा दिए और कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए मजबूर होना पड़ा। थिएटर, रेस्तरां, पब और यहां तक कि पूजा स्थलों को बीमारी के बढ़ते प्रभाव से बचाने सब कुछ बंद करने को मजबूर कर दिया।
यात्रा वापस सामान्य स्थिति में: इन तीन कारकों की वजह से कोरोनावायरस तेजी से फैला है जिसकी वजह से डब्ल्यूएचओ ने इसे महामारी घोषित कर दिया।
1. आर्द्रा नक्षत्र में राहु की हलचल इस वायरस का कारण बन सकती है
2. धनु राशि में बृहस्पति और केतु के मिलने से इस वायरस का पहला मामला देखने को मिला।
3. 26 दिसंबर, 2019 को होने वाले सूर्य ग्रहण, के परिणामस्वरूप भी ये वायरस दुनियाभर में तेजी से फ़ैल रहा है।
चलिए क्रम 2 की बात करते हैं। धनु राशि में मौजूद बृहस्तपति की उपस्थिति वायरस के पहले मामले की घटना में एक प्रमुख योगदान कारक रही है। मार्च 30, 2020 बृहस्तपति मकर राशी में चला गया, या कह सकते हैं ये दुर्बलता का संकेत है। यह वायरस के खिलाफ लड़ाई में पहली बड़ी राहत प्रदान करेगा क्योंकि केतु के साथ बृहस्पति का संयोजन टूट सकता है। जबकि मामलों की संख्या में वृद्धि जारी रहेगी और अधिक मौतों के परिणामस्वरूप, मकर राशी में बृहस्तपति रहने के दौरान वैज्ञानिक शब्दों में कहें तो "फ्लैटंड" यानि स्थिति बेकार रहेगी। हालांकि जून के अंत तक दुनिया भर में वायरस के नए मामलों की संख्या में वृद्धि नहीं होगी।
आर्द्रा नक्षत्र में मौजूद राहु मई 18, 2020 को मृगशीर्ष नक्षत्र में चला जाएगा। कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में यह सबसे महत्वपूर्ण बदलाव होगा। मृगशीर्ष नक्षत्र पर सोम या चंद्र देव का शासन होता है जो अमर अमृत का वरण करते हैं। राहु वायरस का प्राथमिक कारण था और इसका समाधान भी राहु से ही होगा। मध्य मई और मध्य सितंबर के बीच जब राहु मृगशीर्ष नक्षत्र से गुजर रहा होता है, तो दवा की एक प्रमुख खोज होगी, जिसका उपयोग उन सभी को ठीक करने के लिए किया जाएगा जो कोरोनावायरस से प्रभावित हुए हैं।
किसी भी सूर्य ग्रहण के कारण होने वाली किसी नकारात्मक घटना का वैश्विक प्रभाव अगले सूर्यग्रहण के होने तक 6 महीने की अवधि के लिए महसूस किया जाता है, जो 21 जून, 2020 को देखा जाएगा। दुनिया धीरे-धीरे ग्रहण के बाद वापस सामान्य स्थिति में आ जाएगी। जून 2020 हालांकि रिकवरी का समय काफी लंबा होगा, जिसमें युद्ध, भूकंप या अकाल का प्रकोप पूरी तरह से दिख चुका होगा।
अंत में 23 सितंबर, 2020 को क्रमशः राहु और केतु का वृषभ और वृश्चिक राशी में पारगमन, वैक्सीन के आविष्कार के साथ कोरोनोवायरस समस्या के लिए एक स्थायी समाधान लाएगा जो भविष्य में होने वाले इसी तरह के प्रकोप को रोक देगा। अक्टूबर 2020 तक, दुनिया ने स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से कोरोनवायरस वायरस के बारे में बात करना बंद कर दिया होगा। इस बार अगले साल कोरोनोवायरस को केवल एक मौसमी फ्लू के रूप में वर्गीकृत कर दिया जाएगा।
कोरोनावायरस का आर्थिक प्रभाव: जैसा कि लेख में पहले बताया गया है, बृहस्पति वह ग्रह है जो सभी आर्थिक गतिविधियों को संचालित करता है और धन सृजन और वित्तीय सेवा उद्योग का प्रतीक है। नवंबर 2019 में बृहस्पति धनु राशि में परिवर्तित हो गया, जिसने इसे केतु के साथ मिला दिया और मानव में वायरस की घटना को ट्रिगर किया। जब तक बृहस्पति केतु के साथ विशेष रूप से मूला नक्षत्र में उत्तरार्द्ध में है, तब तक दुनिया आर्थिक स्थिति से पीड़ित रहेगी। कई निजी क्षेत्र की कंपनियां अपनी नौकरी खोने के कारण दुनिया भर में लाखों वेतनभोगी पेशेवरों को स्थायी रूप से बंद कर देंगी। कई उद्योग विशेष रूप से पर्यटन, परिवहन, व्यापार आदि से संबंधित हैं, उन्हें आर्थिक मंदी का खामियाजा भुगतना पड़ेगा जिसके परिणामस्वरूप दुनिया आर्थिक तंगी से जुडी होगी। याद रखें केतु वह ग्रह है जो भौतिक सुखों से वंचित करता है और मूला नक्षत्र में इसकी उपस्थिति नकारात्मक प्रभावों को कई गुना बढ़ा देती है।
30 मार्च, 2020 को मकर राशि में बृहस्पति का पारगमन केवल समस्याओं को बढ़ाता है क्योंकि यह वह राशि है जहां बृहस्पति दुर्बल हो जाता है। पिछली बार 2008 में बृहस्पति मकर राशि में था, दुनिया ने अपने सबसे बड़े वित्तीय संकट को कुछ उच्च प्रोफ़ाइल नामों के साथ देखा था, जिसमें बड़े नामी नाम शामिल हैं जैसे लेहमन ब्रदर जिनका दिवालिया निकल गया था। बृहस्पति बैंकिंग उद्योग को प्रभावित करता है और मंदी का नतीजा कुछ बैंकिंग कंपनियों में हो सकता है।
सितंबर 2020 में जब केतु वृष्चिक राशी में चला जाएगा तो कुछ राहत मिलेगी लेकिन वैश्विक अर्थव्यवस्था में वास्तविक बदलाव अप्रैल 2021 से शुरू होगा जब बृहस्पति कुंभ राशि में चले जाएगा। इसलिए ऐसी संभावना है कि अगले 12 महीने कई मोर्चों पर सभी ग्रह अशांत होंगे लेकिन सभी बड़े संकटों की तरह यह भी धीरे-धीरे गुजर जाएगा और दुनिया मजबूत और बेहतर रूप से सामने आएगी।
भाग्य बनाम मुक्त इच्छा: ग्रहों के गोचर का उपरोक्त संयोजन केवल एक संकेतक है और किसी भी घटना के होने के पुख्ता सबूत नहीं है। कई लोगों का सवाल है कि कोई ज्योतिषी या वैज्ञानिक इस पैमाने पर किसी समस्या को दूर क्यों नहीं करता जितना आज दुनिया देख रही है। कृपया ध्यान दें कि ज्योतिषीय रूप से, राहु ग्रह मनुष्यों में इस वायरस के उद्भव का प्राथमिक कारण है। राहु किसी भी उपन्यास को दर्शाता है जिसे दुनिया ने पहले कभी नहीं देखा है। राहु जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है कि एक अपरंपरागत छाया ग्रह है जो दुनिया को आश्चर्यचकित करने की क्षमता रखता है।
इस महामारी के लिए दुनिया के सामूहिक कर्म से ज्यादा कुछ और भी जिम्मेदार है। पिछले दशक में आर्थिक संघर्ष, शारीरिक संघर्ष और युद्ध जैसे हालात, आहार संघर्ष, धार्मिक संघर्ष और ध्रुवीकरण, प्रदूषण के घातक स्तर, मानव भूख को संतुष्ट करने के लिए जीवित जानवरों की हत्या और कई अन्य घटनाओं के लिए मनुष्य जिम्मेदार है।
ऐसा लगता है कि ग्रह ने पर्याप्त और अपने निवासियों को एक कठिन सबक सिखाने का फैसला लिया है। ऐसा लगता है ग्रहों की योजनाएं प्राकृतिक चीजों को प्रभावित करने की योजना है। याद रखें कि प्रकृति हम मनुष्यों से कुछ भी छीनने की क्षमता रखती है, जिनके हकदार हम मनुष्य बिलकुल भी नहीं हैं।
पिछले कुछ दिनों और सप्ताहों से कई शहरों की सड़कों पर विलुप्त होती जा रही प्रजातियों के उद्भव को लंबे समय से देखा जा रहा है, प्रमुख महानगरों में पक्षियों को भी देखा जा रहा है और कई सालों बाद प्रदूषण में निम्न स्तर रिकॉर्ड दर्ज किया गया है। ये सब देखकर मनुष्य की करनी पर सवाल उठने लगे हैं। जो कि मनुष्य के घरों में बैठने से धीरे-धीरे प्रकृति ठीक होती जा रही है।
यह स्पष्ट रूप से एक संकट है, लेकिन जैसा कि हर संकट एक महत्वपूर्ण समस्या को हल करने का एक बड़ा अवसर लेकर आता है। दुनिया नए उद्योगों और व्यवसायों, संचार और यात्रा के नए तरीकों का गवाह बनेगी, जलवायु परिवर्तन से संबंधित मुद्दों को सुलझाने पर ध्यान केंद्रित करेगी। यह संकट मानव जाति को भी प्रकृति के करीब लाएगा।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियर और फाइनेंस प्रोफेशनल श्रीनिवासन गोपालन पिछले 15 वर्षों से वेदिक ज्योतिष के साथ जुड़े हैं। उन्हें इस काम की प्रेरणा अपने नाना जी डॉ. एन. पी. शिशाद्री से मिली है जो कि खुद एक प्रसिद्ध ज्योतिष रह चुके हैं। श्रीनिवासन प्राचीन वैज्ञानिक सिद्धांतों के साथ सहज दृषि्टकोण का मिश्रण कर अपने क्लाइंट्स को उनका सटीक भविष्य बताते हैं।

[+]

नामांक बताएगा आपका भविष्य

नामांक भविष्यफल जानने का आसान तरीका
माना जाता है। अपना नामांक जानने के
लिए यहां अपना नाम दर्ज करें



Baby name