दुर्घटना - हस्त रेखाDurghatna - Hast Rekha

दुर्घटना या हानि और हस्त रेखा: हथेली की उन रेखाओं व पर्वतों की जिन पर निशान पाया जाता है , जैसे कि जब क्रॉस का चिन्ह जीवन रेखा और भाग्य रेखाके मध्य पाया जाता है तब वह जातक के बिजनेस में या व्यापार में नुकसान का सूचक होता है इसी प्रकार जब क्रॉस का चिन्ह मस्तिष्क रेखा पर पाया जाता है तो उस समय विशेष में सिर पर चोट लगने या किसी सर्जरी का सूचक या सिर पर आघात लगने का सूचक होता है और जब क्रॉस का चिन्हजीवन रेखा पर पाया जाता है तो उस समय काल में व्यक्ति को दुर्घटना या किसी भी तरह की आर्थिक मानसिक व शारीरिक हानि उठानी पड़ती है।और जब✖ हृदय रेखा पर पाया जाए तो हृदयाघात या किसी सर्जरी या किसी भी तरह के मानसिक आघात का दिल पर गहरा प्रभाव पड़ता है । जब चंद्रमा के क्षेत्र पर अगर क्रॉस के एक या कई निशान पाए जाए तो यह यात्रा में असफलता या किसी दुर्घटना का सूचक होता है। इसी प्रकार बुध के क्षेत्र के पर्वत पर अगर क्रॉस का निशान पाया जाए तो उस समय अवधि में व्यक्ति को कारोबार मे विशेषकर साझेदारी में नुकसान पहुंचाता है। सूर्य पर्वत पर पाए जाने वाला क्रॉस का चिन्ह व्यक्ति को उसके कार्य क्षेत्र में अपयश या बदनामी दिलाता है। इसी प्रकार शनि पर्वत पर पाया जाने वाला क्रॉस का चिन्ह व्यक्ति को किसी दुर्घटना या जीवन पर खतरे का सूचक होता है। शुक्र के क्षेत्र पर पाए जाने वाले एक या दो क्रोस ✖ ये दर्शाते हैं कि जातक को अपने जीवन काल मे प्रेम संबंधों मे असफलता मिलगी । इसी प्रकार मंगल (उच्च व नीच)के क्षेत्र पर पाये जाने वाले गुणन ✖ भी अशुभ फल देते हैं जैसे कि शस्त्राघात से मृत्यु या अपराधिक तत्वों द्वारा मृत्यु ।यानि कि गुणन या ✖ अधिकतर परेशानी व मानसिक अवसाद का कारण होता है। अतः किसी भी हस्तरेखा विशेषज्ञ को हाथ मे क्रोस अध्ययन काफी सावधानी से करना चाहिए और तभी भविष्यवाणी करनी चाहिए।
[+]

नामांक बताएगा आपका भविष्य

नामांक भविष्यफल जानने का आसान तरीका
माना जाता है। अपना नामांक जानने के
लिए यहां अपना नाम दर्ज करें

Love Meter

लव मीटर