Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Menu
Search
Menu
close button
Navratri Upay

नवरात्रि के उपाय:

नवरात्रि पर करे ये चमत्कारी उपाय जिन्हे करने से होगी सभी बाधाऐ दूर|
इस बार चैत्र नवरात्रि की शुरूवात 18 मार्च को होगी जयपुर के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य आचार्य भारत व्यास (ज्योतिष् रत्न से सम्मानित ) बताते है कि शास्त्रो के अनुसार, हर कार्य क्षेत्र मे सफलता के लिए माता दुर्गा की आराधना परम सुखदायी होती है. नवरात्रि माता को अत्यंत प्रिय होती है, नवरात्रि मे माता हर भक्त की मुराद पूरी करती है | नवरात्रि मे किए गये उपाय तुरंत असरदायी ओर फलदायी होते है | यहा पर हम ऐसे ही कुछ सरल ओर सात्विक उपाय आपको बताने जा रहे है जिन्हे पूर्ण श्रद्धा के साथ करके आप आसानी से अपने दुर्भाग्य से छुटकारा पा सकते है |

1. यदि आप क़र्ज़ की परेशानी के चलते परेशान है तो आप नवरात्रि के प्रथम दिवस से नवरात्रि के अंतिम दिवस तक लगातार मंगल ऋणमोचक स्त्रोत का निरंतर पाठ करे शीघ्र आपके ऋण मे कमी आने लगेगी |
2. यदि आप किसी पुरानी बीमारी के चलते परेशान चल रहे है तो नवरात्रि के प्रथम दिवस से राम रक्षा स्त्रोत का पाठ नियमित रूप से प्रारंभ कर दे आपकी बीमारी मे आपको आराम मिलने लगेगा |
3. स्थाई लक्ष्मी निवास के लिए नवरात्रि मे श्रीसूक्त का पाठ तुरंत असरदायी होता है |
4. जो जातक राहु, केतु ओर शनि ग्रह की पीड़ा से परेशान है उन्हे नवरात्रि मे माता काली की साधना लाभदायक सिद्ध होती है |
5. नवरात्रि मे देवी के अथर्वशीर्ष का पाठ करने से सभी भौतिक सुखो की प्राप्ति होती है तथा ऐश्वर्य की भी प्राप्ति होती है |
6. अगर आपका वैवाहिक जीवन सही नही चल रहा है तो माता के मंदिर मे नवरात्रि के नौ दिन तक लगातार माता पार्वती ओर भगवान शिव का पंचोपचार पूजन करने से वैवाहिक जीवन मे शांति मिलती है |
7. नवरात्रि मे मनवंछित विवाह के लिए भगवान शिव का शहद से अभिषेक करे तथा माता पार्वती को लाल चुनरी अर्पित करे |
8. यदि आपके आस पास नकारात्मक उर्जा है ओर आप उससे छुटकारा पाना चाहते है तो नवरात्रि मे भैरव मंदिर मे दीप दान करने से नकारात्मक उर्जा का नाश होता है |
9. यदि आप धन की कमी से परेशान है तो नवरात्रि के पहले दिन 11 लधु नारियल एक लाल कपड़े को बिछाकर उस पर रख दे ओर नवरात्रि के नौ दिन तक उनकी पूजा करे, फिर नवरात्रि के आखरी दिन उसे अपने धन स्थान पर रख दे इससे स्थाई लक्ष्मी का वास होगा और धन से जुड़ी समस्या भी दूर होगी |
10. जो लोग संतान सुख से को लेकर चिंतित है वे लोग नवरात्रि मे माता भुवनेश्वरी की पूजा उपासना करनी चाहिए इनकी उपासना से संतान सुख की प्राप्ति होती है |

रामनवमी और चमत्कारी उपाय:
रामनवमी पर करे ये चमत्कारी उपाय जिन्हे करने से प्रभु श्री राम करेंगे सभी बाधाऐ दूर
हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हिन्दू पंचांग के आधार पर चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि 25 मार्च 2018, को रामलला का जन्मोत्सव अर्थात राम नवमी मनाई जाएगी | इस दिन रामचरितमानस की चौपाई एवं अध्याय के कुछ उपाय करने से मानव जीवन की हर कठिनाई को आसानी से दूर किया जा सकता है क्योकि कलयुग मे दुखो को दूर करने के लिए रामचरितमानस से बड़ा कोई दूसरा उपाय हो ही नही सकता | रामचरितमानस की एक एक चौपाई मानव जीवन की कठिनाई को दूर करने मे सक्षम है | रामचरितमानस हमे जीने की कला सिखाती है, जो आज के युग मे अतिआवश्यक है | रामचरितमानस के सात कांड सातो ग्रह की पीड़ा को शांत करते है एवं उन्हे बल भी प्रदान करते है |
1. जो लोग सूर्य की महादशा मे है या जिनकी कुंडली मे सूर्य नीच का है, उन्हे रामचरितमानस के बाल कांड का पाठ करना चाहिए | इसमे सूर्यवंशी भगवान राम के जन्म एवम् बाल चरित्र का वर्णन किया है | बाल कांड का नित्य पाठ करने से स्वास्थ से जुड़ी समस्याओ का भी अंत होता है |
2. अयोध्या कांड के नित्य पाठ करने से चंद्रमा के दोषो मे आराम मिलता है, साथ ही मानसिक तनाव भी कम होता है |
3. अरण्यकाण्ड का निरंतर पाठ करने से मंगल के दोषो मे आराम मिलता है तथा जिनकी कुंडली मे मांगलिक दोष होता है उन्हे भी फ़ायदा होता है |
4. जिन लोगो की कुंडली मे बुध की महादशा है या बुध नीच का है, उन्हे रामचरितमानस के किष्किन्धा काण्ड का निरंतर पाठ करना चाहिए |
5. जिन लोगो की कुंडली मे गुरु की महादशा है या गुरु नीच का है, उन्हे रामचरितमानस के सुंदर काण्ड का निरंतर पाठ करना चाहिए |
6. जिन लोगो की कुंडली मे शुक्र की महादशा है या शुक्र नीच का है, उन्हे रामचरितमानस के लंका काण्ड का निरंतर पाठ करना चाहिए |
7. जो जातक शनि की महादशा, शनि साढ़ेसाती और ढैय्या के प्रभाव से पीड़ित है या फिर राहु ओर केतु ग्रह की महादशा से पीड़ित है उन्हे रामचरितमानस के उतर काण्ड का निरंतर पाठ करना चाहिए |
8. जो व्यक्ति किसी पुराने रोग से या अकारण भय से परेशान रहते है उन्हे राम रक्षा स्तोत्र का पाठ 3 बार करना चाहिए.
ज्योतिषाचार्य आचार्य भारत जी व्यास, महर्षि व्यास ज्योतिष केंद्र (+91-8696840491)