Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Menu
Search
Menu
close button
Kaal Sarp Dosha Remedies Hindi

काल सर्प दोषKaal Sarp Dosha in Kundali

कुंडली में काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosha in Kundali):
कुंडली में कालसर्प योग के बारें में भी ज्योतिष बेहद ध्यान देते हैं। कालसर्प तब होता है जब राहु-केतु के मध्य सातों ग्रह हो। सरल शब्दों में जब जातक की कुंडली में सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र और शनि राहु और केतु के बीच आ जाए तब ‘कालसर्प योग’ निर्मित होता है।
काल सर्प दोष के लक्षण (Kaal Sarp Dosha Effects): इस दोष की वजह से संतान उत्पत्ति में बाधा, निराशा, अवसाद, असफलता आदि का सामना करना पड़ता है।
काल सर्प योग से बचने के उपाय (Kaal Sarp Dosha Remedies in Hindi): काल सर्प योग से निवारण हेतु सबसे बेहतर उपाय नागों की पूजा और नाग पंचमी के दिन दान और सांप को दूध पिलाना बताया गया है।
* साथ ही चन्द्र ग्रहण के दिन बहते जल में चांदी के सर्पों को बहाने से भी काल सर्प दोष से मुक्ति मिलती है।
* इसके अलावा भगवान शिव को सांपो का देवता माना जाता है इसलिए जितना हो सके “ओम नम: शिवाय” और महामृत्युंजय मंत्र का सुबह-शाम का जाप करना चाहिए और शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए।