Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Menu
Search
Menu
close button
Vrishchik Rashi

वार्षिक राशिफल वृश्चिक (Varshik Rashifal Vrishchik)- Year 2018

Astrology, Horoscope, Rashiphal, Prediction | राशिफल | Rashifal  in Hindi

Raftaar Live

परिवार और मित्र: इस वर्ष आपको पारिवारिक जीवन मे आनन्द मिलने वाला है। भाई-बहन (Brother-Sister) के साथ आपके रिश्ते सामान्य रहेंगे। उनके साथ आपको घुमने का भी मौका मिलने वाला है तथा उनके ऊपर आपको खर्च भी करने का मौका मिलेगा। आपको अपने सगे सम्बन्थियों की ओर से ख़ुशियाँ मिलने वाली है। इन लोगों के साथ आपका ताल-मेल भी बना रहेगा। शनिदेव आपके दूसरे भाव में बैठे है अतः परिवार के लिए यह स्थिति बहुत अच्छी नही है दाम्पत्य जीवन में खलल संभव है। झूठ बोलने के कारण परेशानी हो सकती है एक दूसरे के ऊपर आरोप प्रत्यारोप संभव है अतः सच्चाइयो का सामना करना ही आपके लिये बेहतर विकल्प होगा।चतुर्थेश शनि का धन भाव में होने से आप प्रॉपर्टी में निवेश करेंगे। माता जी के कारण पारिवारिक विभेद का योग है। संतान भाव का स्वामी गुरु व्यय भाव में स्थित है अतः संतान को लेकर कोई विवाद हो सकता है साथ ही उनकी सेहत को लेकर भी परेशानी हो सकती है। पिताजी को कोई लम्बी चलने वाली बिमारी हो सकती है। भाई- बहन का पूर्ण सहयोग मिलेगा तथा उनसे लाभ भी होगा। परिवार के ऊपर खर्च होने का योग है। आपके ऊपर अभी शनि की अंतिम साढ़ेसाती भी चल रही है। शनि की अष्टम भाव पर दृष्टि है जिसके कारण घर में पैतृक संपत्ति को लेकर अनबन हो सकता है। जायदाद की खरीद बिक्री संभव है। यद्यपि साल के कुछ दिनों में आपको अनेक उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता हैं। लेकिन अक्टूबर माह से आपके पारिवारिक संबंधों में मधुरता आएगी, परंतु इससे पूर्व सावधानी बरतना बेहद ही ज़रूरी है।माता के साथ संबंध अच्छे नहीं रहेंगे, क्योंकि हमेशा कुछ न कुछ विवाद होने की संभावना है, लेकिन पिता के साथ ठीक रहेगा। पिता का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा। संतान से ख़ुशी मिलेगी, लेकिन उनका ज़िद्दी रवैया आपको कभी-कभी परेशान कर सकता है।
रिश्‍ते और प्‍यार:आप के प्रेम भाव का स्वामी वृहस्पति अक्टूबर से केंद्र वा लग्न में बैठा रहेगा यह शुभ योग है। प्रेम भाव का स्वामी गुरु साल के प्रारम्भ में व्यय भाव में बैठा है यदि पहले से प्रेम चल रहा है तो प्रेम टूट सकता है सावधान हो जाए आप दोनों के विचारो में भिन्नता आएगी फलतः सम्बन्ध में कड़वाहट हो सकती है। दिल टूट सकता है। ऐसी स्थिति शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए जिद्द के कारण भी हो सकता है आपका प्रेम भाव का स्वामी सेक्स भाव में बैठा है। यह स्थान जेल का भी है यदि इच्छा विरुद्ध कार्य कर रहे है तो जेल जाने की नौबत आ सकती है। अतः सम्बन्ध की पवित्रता को बनाये रखे तथा अक्टूबर माह का इन्तजार करे।अक्टूबर माह से प्रेम-संबंधों से प्रसन्नता मिलने वाली है। अपने रिश्ते को बनाएं रखने के लिये एक दूसरे के ऊपर श्रद्धा और विशवास बनाएं रखना हि बेहतर विकल्प है। हर स्तर पर एक दूसरे को समझने की कोशिश करें और विवेक से काम लें। इस माह से आपका जीवन रोमांस से भरा रहेगा। आपका प्रेम शादी का भी रूप ले सकता है।
स्‍वास्‍थ्‍य: यह वर्ष स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से सामान्य रहेगा। आपको गले से ऊपर के भाग में परेशानी हो सकती है। आँख, कान, मस्तिष्क, तथा जोड़ों में दर्द जैसी बीमारी के शिकार हो सकते है। ठंढा-गर्म के कारण आप बीमार हो सकते है। पाचन सम्बन्धी परेशानी का सामना करना पडेगा। लिवर से सम्बन्धित समस्या आ सकती है। अपने खान-पान पर विशेष ध्यान दें। यदि नियम पूर्वक व्यायाम करते है तो ऐसी बीमारियों में लाभ मिलेगा।
करियर और शिक्षा: यदि आप नौकरी नहीं कर रहे है तो यह समय स्ट्रगल का है। यदि आप विदेश जाना चाहते है तो पढ़ने के लिए इस समय विदेश जाने का योग बन रहा है। यदि आप नौकरी कर रहे हैं तो संभलकर रहे आपके खिलाफ साजिश हो सकती है। कार्यस्थल पर अपने अभिमानी प्रवृत्ति से बचने की कोशिश करें। अपने कार्य पर ध्यान दे और अपने पर ही भरोसा करें अन्य पर नहीं। अपने क्रोध पर काबू रखें बड़े अधिकारियों से अनबन हो सकती है आप इससे बचे।
बिज़नेस/स्‍टॉक/प्रॉपर्टी:धन भाव का स्वामी गुरु आपके व्यय स्थान में बैठकर प्रॉपर्टी, ऋण तथा पैतृक सम्पति के भाव को देख रहा है अतः प्रॉपर्टी का खरीद बिक्री का योग बन रहा है। धन भाव का स्वामी गुरु खर्चे के भाव में बैठा है अतः जरुरत से ज्यादा खर्च होगा हालांकि यह व्यय शुभ कार्यो के लिए होगा। यदि कही निवेश करना चाह रहे है तो सोच समझकर ही निवेश करें जल्दबाजी में कोई फैसला न ले अन्यथा नुकसान होगा।अक्टूबर मास से गुरू का संचार लग्न में हो रहा है अतः इस समय आपको पुत्र लाभ के साथ-साथ धन का भी लाभ होगा। शेयर बाज़ार से भी बेहतर लाभ होने की संभावना है, इसलिए इसमें अपनी सहभागिता बनाए रखें। यदि बृहस्पति की महादशा या अन्तरदशा चल रही है तो अवश्य ही धन की प्राप्ति होगी।

ज्योतिषाचार्य आचार्य भारत जी व्यास, महर्षि व्यास ज्योतिष केंद्र

शुभ रंग

शुभ अंक

वृश्चिक राशि के बारे में (Oct 24 - Nov 22)About Vrishchik Rashi

Astrology, Horoscope, Rashiphal, Prediction | राशिफल | Rashifal  in Hindi

वृश्चिक राशि का स्वामी ग्रह मंगल है। वृश्चिक राशि के जातकों के आराध्य देव गणेश जी होते हैं।

वृश्चिक राशिफल (Vrishchik Rashifal) - अन्य स्रोतों द्वारा

वृश्चिक राशि की विशेषतायें वृश्चिक राशि भचक्र की आठवें स्थान पर आने वाली राशि है. भचक्र पर इस राशि का विस्तार 210 अंश से 240 अंश तक फैला हुआ है. इस राशि के अन्तर्गत विशाखा नक्षत्र का चौथा चरण, अनुराधा...

यह साल का वह समय है जब आप पूरे साल की योजना बनाते हैं, ताकि साल का पूरा समय सुचारू रूप से गुज़रे। लेकिन आप जो भी योजनाएँ बनाएंगे वे सही हैं या नहीं, इसके लिए आपको भविष्य के संकेतों को समझना पड़ेगा। इसल...

जनवरी से मार्च के बीच आप में सक्रियता का अभाव रहेगा । जल्दबाजी से काम करेंगे। जिससे आपको वांछित परिणाम नहीं मिलेंगे। रिश्तों को नई दिशा देंगे। प्रेरणा शक्ति का संचार होगा । संतान की गतिविधियां चिंता म...