Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Menu
Search
Menu
close button
Vastu

वास्तु शास्त्र क्या है?Vastu Shastra in Hindi

भारतीय ज्योतिष की अधिकतर चीजों को विज्ञान अंधविश्वास करार देता है लेकिन ज्योतिष की एक अहम शाखा "वास्तु शास्त्र और ज्ञान" को विज्ञान ने भी प्रमाणित किया है। वास्तु शास्त्र भवन निर्माण का विज्ञान है।
वास्तु शास्त्र क्या है (What is Vastu Shashtra)
"वास्तु" शब्द का शाब्दिक अर्थ विद्यमान यानि निवास करना होता है। निवास करने वाली जगह को बनाने और संवारने के विज्ञान को ही वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra in Hindi) कहा गया है। वास्तु शास्त्र के सिद्धांत आठों दिशाओं तथा पंच महाभूतों आकाश, भू, वायु, जल, अग्नि आदि के प्रवाह आदि को ध्यान में रखने बनाए गए हैं। इन सबके मेल से एक ऐसी प्रकिया खड़ी की जाती है जो मनुष्य के रहने के स्थान को सुखमय बनाने का कार्य करती है।
क्या है वास्तु दोष (Vastu Dosh)
साधारण भाषा में समझा जाए तो जब मनुष्य के रहने के स्थान पर किसी तत्व में कोई कमी आती है तो उसका जीवन कष्टकारी हो जाता है। वास्तु शास्त्र यह सुनिश्चित करता है कि भवन के आसपास का माहौल पंच-तत्वों और आठों दिशाओं के अनुकूल हो।
हर भवन अथवा निर्माण के लिए वास्तु शास्त्र में अलग-अलग नियम बताए गए हैं। आइए इन सभी नियमों (Vastu Tips in Hindi) को विभिन्न श्रेणियों द्वारा समझें।

To Read Vastu Tips in Hindi Visit: वास्तु टिप्स (Vastu Tips in Hindi)
Vastu Tips For Home in Hindi: घर के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips for Home in Hindi)
Vastu Tips For Bedroom: बेडरूम के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips for Bedroom in Hindi)
Vastu Tips For Kitchen: किचन के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips for Kitchen in Hindi)